Click Here Corona Virus JUNE All Updates | कोरोना वायरस से जुड़ी आज की सारी खबरें




उत्तराखंड पुलिस ने इंसानियत की मिसाल कायम की है एक तरफ तो पूरे देश में लॉक डाउन  है वहीं दूसरी तरफ लोगों को सुरक्षित रखने के लिए पुलिस 24 घंटे ड्यूटी पर लगी हुई है उत्तराखंड की पुलिस की दिल जीत लेने वाली तस्वीर सामने आई है जहां पर पुलिस गरीब और बेसहारा लोगों की मदद करती हुई दिख रही है



इसी बीच उत्तराखंड से पुलिस की दिल जीत लेने वाली तस्वीर सामने आई है यहां पुलिस गरीब लोगों की मदद करती हुई दिख रही है, बेसहारा लोगों को खाना खिलाती हुई दिख रही है। पुलिस ने अपना काम बड़ी ही समझदारी ईमानदारी और अपने कर्तव्य समझते हुए किया है पुलिसकर्मियों ने जरूरतमंद लोगों को खाने-पीने की व आवश्यक सामग्री मुहैया कराने का कार्य किया है 


शहर भले ही लॉकडाउन पर है, पर हम अपना काम कर रहे हैं। लॉकडाउन के बीच हरिद्वार में Uttarakhand Police के जवान मजबूर, निर्बल, असहाय लोगों की सेवा में लगे हुए हैं। पुलिसकर्मियों ने जरूरतमंद लोगों को खाने पीने आवश्यक सामग्री मुहैया करायी। इसके साथ ही कई पुलिसकर्मियों ने पैसों की किल्लत से जूझ रहे कई लोगों को अपने पास से पैसे देकर उनके गंतव्य के लिए रवाना किया।
#SaluteToKhaki #IndiaFightsCorona





लॉकडाउन के दौरान नैनीताल के ज्योलीकोट में तैनात Uttarakhand Police के जवानों द्वारा सुदूर पहाड़ी क्षेत्रों के ग्राम सीमलखेत एवं बेलवाखान जो मुख्य मार्ग से लगभग 2 किमी दूर थे, पैदल जाकर गरीब एवं असहाय परिवारों को उनके घर पर आवश्यक खाद्य सामग्री वितरित की गयी।
 





जरूरतमंद और असहायों की मदद के लिए बढ़े मित्र पुलिस के हाथ
लॉकडाउन के दौरान नैनीताल में Uttarakhand Police के जवानों द्वारा गरीब असहाय लोगों के लिए भोजन की व्यवस्था की गयी।
#IndiaFightsCorona #SaluteToKhaki






"बच्चों को चेहरे की खुशी और आंखों की चमक से लॉकडाउन ड्यूटी की सारी थकान ही दूर हो गयी।"
जानिए ऐसा क्या हुआ ऊधमसिंहनगर के किच्छा में Uttarakhand Police के SI Ramesh Chandra Belwal के साथ।



आज किच्छा में ड्यूटी के दौरान एक बेबस और लाचार पिता से मुलाकात हुई जो अपनी दो बेटियों के साथ साइकिल से 50 किलोमीटर हल्द्वानी से बहुत परेशान हालत में किच्छा पहुंचा था रोकने पर उसके द्वारा बताया गया कि उसकी एक लड़की बीमार है कोरोना वायरस की मार के बाद रोजगार ना होने के कारण हल्द्वानी से वापस अपन घर साइकिल से जा रहा तथा वह और उसकी बेटियां पैसे होने के कारण पिछले 24 घंटे से भूखे हैं उनकी हालत देखकर सच में आंखों में आंसू गए हमारी चेकिंग पुलिस टीम द्वारा आपस में सहयोग राशि जमा कर तत्काल आर्थिक सहायता प्रदान की गई। उक्त व्यक्ति को कोरोनावायरस के खतरे से अवगत कराते हुए सेनीटाइज किया गया तथा तुरंत घर जाने हेतु बताया। बच्चियों को जब हमारे द्वारा खाने के लिए कुछ टॉफिया दी गई तो उनके चेहरे पर खुशी वह आंखों में चमक देखने लायक थी सच बताऊं उनकी खुशी देखकर ड्यूटी की कई दिन की थकान दूर हो गई।








 
पिथौरागढ़ में Uttarakhand Police द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग को बढ़ावा देने के साथ-साथ असहाय और जरूरतमंदों के लिए खाने की व्यवस्था की जा रही है।





"लॉकडाउन में असहायों के लिए Uttarakhand Police ने लगाया सामूहिक किचन"
लॉकडाउन के दौरान असहायों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं उत्तराखण्ड पुलिस के जवान। इस कर्म में आई॰आर॰बी॰ द्वितीया के पुलिसकर्मी सामूहिक किचन लगाकर बेसहारा लोगों को खाना खिला रहे हैं।


 

 कोरोना वायरस से बचने का सबसे आसान उपाय सोशल डिस्टेंस है। पुलिस अधीक्षक पिथौरागढ़ श्रीमती प्रीति प्रियदर्शनी पिथौरागढ़ की जनता को सोशल डिस्टेंस पर जागरूक करते हुए। आपस में एक मीटर की दूरी अपनाएं, कोरोना वायरस को भगाएं।

 



"लॉकडाउन में असहायों के लिए Uttarakhand Police ने लगाया सामूहिक किचन"

लॉकडाउन के दौरान असहायों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं उत्तराखण्ड पुलिस के जवान। इस कर्म में आई॰आर॰बी॰ द्वितीया के पुलिसकर्मी सामूहिक किचन लगाकर बेसहारा लोगों को खाना खिला रहे हैं।



"लॉकडाउन में असहायों के लिए Uttarakhand Police ने लगाया सामूहिक किचन"



"लॉकडाउन में असहायों के लिए Uttarakhand Police ने लगाया सामूहिक किचन"




"लॉकडाउन में असहायों के लिए Uttarakhand Police ने लगाया सामूहिक किचन"





Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box.

Previous Post Next Post