Click Here Corona Virus JUNE All Updates | कोरोना वायरस से जुड़ी आज की सारी खबरें



हजारों की संख्या में बिहार और यूपी के मजदूर दिल्ली से पैदल अपने घर निकले हैं. एनएच 24 पर हजारों की संख्या में मजदूरों और कामगारों के वीडियो सामने रहे हैं. भारी संख्या में लोग अपने घर के लिए निकले हैं.
पत्रकार रवीश कुमार और अजीत अंजुम ने कुछ वीडियो और सूचनाएं शेयर की हैं, जो विचलित करने वाली हैं. दिल्ली से हजारों की संख्या में लोग पैदल अपने घरों के लिए निकल रहे हैं. ये कामगार वर्ग के लोग हैं.








एएनआई ने भी यूपी बॉर्डर का एक वीडियो ट्वीट किया है जिसमें भारी संख्या में लोग दि रहे हैं. इन सभी वीडियो में देखा जा सकता है कि लोगों की संख्या काफी ज्यादा है, जैसे कुंभ मेले में लोग दिखते हैं.
अजीत अंजुमबता रहे हैं किमीडिया ने अफवाह फैलाई कि बॉर्डर से बसों का इंतजाम किया गया है. इसके बाद एनएच 24 पर हज़ारों की संख्या में लोग उमड़ पड़े.
यह मीडिया तो जैसे देश का दुश्मन बन चुका है. मीडिया वालों से अपील है कि हो सके तो कुछ दिन अफवाह मत फैलाइए. महामारी बीत जाएगी, उसके बाद फिर से हिंदु मुसलमानजाहिलों को लड़ाने का मौका मिलेगा ही.

एक बीजेपी नेता हैं. नाम है बलबीर पुंज. बता रहे हैं कि 'दिल्ली के मजदूर पैसा, भोजन आदि की असुरक्षा के चलते नहीं भाग रहे हैं. वे अपने परिवार के साथ छुट्टी मनाने के लिए भाग रहे हैं.'

इसे आप अश्लीलता और बेशर्मी की पराकाष्ठा कह सकते हैं. बलबीर पुंज बुजुर्ग हैं, राज्यसभा सांसद हैं, अपने को सोशल और पॉलिटिकल कमेंटेटर कहते हैं. ऐसा नहीं है कि वे देश के बारे में नहीं जानते. लेकिन उम्र गुजरी है चाटुकारिता में. इसलिए अपने तंबू से बाहर नहीं देख पा रहे हैं. 

भाग रहे लोगों में असंख्य बच्चे हैं, बूढ़े हैं, गर्भवती महिलाएं हैं, बीमार लोग हैं, गोद में छोटे से बच्चे को लेकर पैदल चल रही माएं हैं, भीख मांग कर पेट भरने वाले हैं, फुटपाथ पर सोकर मजूरी करने वाले हैं. उनके पास रहने को घर नहीं हैं. रैन बसेरे में जगह नहीं है. उनके पास खाने को नहीं है. 

क्या मध्यवर्ग भी कभी ऐसी यात्रा करता है कि 1000 किलोमीटर पैदल बिना खाए पिए चलता रहे? वे किसी अनजाने डर से भाग रहे हैं. लेकिन भाजपा का एक वरिष्ठ नेता, जिसने भारत की गरीबी देखी होगी, जिससे अपेक्षाकृत ज्यादा संवेदनशीलता की अपेक्षा की जाती है, वह इन गरीब लोगों पर ऐसा अश्लील फिकरा कस रहा है. 

नेतृत्व की परीक्षा संकटकाल में ही होती है. इस संकट काल में कोई नेता जनता का मजाक उड़ा रहा है, कोई रामायण देखते हुए अपनी फोटो जारी कर रहा है, कोई घंटी बजाते हुए वीडियो बनवा कर जारी कर रहा है, कोई आरती और श्लोक शेयर कर रहा है. यही इनका महान नेतृत्व है. 


बलबीर पुंज जी, हम आपके इस अनर्गल बयान पर शर्मिंदा हैं कि आप हमारी संसद में बैठे हैं.

प्रियंका गांधी ने भी एक वीडियो जारी करके कहा है कि 'दिल्ली के बॉर्डर पर त्रासद स्थिति पैदा हो चुकी है. हजारों की संख्या में लोग पैदल अपने घरों की तरफ निकल पड़े हैं. कोई साधन नहीं, भोजन नहीं. कोरोना का आतंक, बेरोजगारी और भूख का भय इनके पैरों को घर गांव की ओर धकेल रहा है. मैं सरकार से प्रार्थना करती हूं कृपया इनकी मदद कीजिए.'
आजकल दिल्ली में चुनाव नहीं हैं, इसलिए बिहारी राजनीति करने वाले सब जीव जंतु हाइबरनेशन में चले गए हैं. चुनाव होता तो तमाम नचनिया बजनिया गली गली में कूद रहे होते. कुछ दिन पहले फर्जी लौहपुरुष भी पर्चा बांटते पाए गए थे. अब वे भी दस पंद्रह दिन से गाय चल रहे हैं.
इतनी बड़ी संख्या में लोगों का निकलना पुलिस के लिए भी परेशानी का सबब है. यह खतरनाक है. अपने आसपास के लोगों से कहें कि वे कहीं निकलें. सरकार को तुरंत और प्रभावी कदम उठाना चाहिए.



प्रियंका के सुझाव


प्रियंका ने लिखा है- ‘लॉकडाउन के चलते अर्थजगत लोगों की रोजी-रोटी पर भी खतरा मंडरा रहा है. इसका सबसे ज्यादा बुरा प्रभाव गरीबों और मजदूरों पर पड़ रहा है. ये वक्त हम सबके लिए अपने मतभेदों से ऊपर उठकर देश के लिए एकजुट होकर लड़ने का वक्त है. हमें खास ध्यान रखना होगा कि इस घड़ी में प्रदेश की जनता खासकर वंचित और गरीब तबके के लोगों के सामने और गहरा संकट खड़ा हो.
प्रियंका लिखती हैं, ‘इस आपदा ने दिहाड़ी मजदूरों, ठेले-पटरी वालों, निर्माण मजदूरों, निराश्रितों, विधवाओं, विकलांगों की जिंदगी में तूफ़ान सा ला दिया है. आपसे निवेदन है कि इनके लिए जो भी योजनाएं घोषणाएं हों उनका लाभ उन तक पहुंचना सुनिश्चित करवाएं.
आपसे निवेदन है कि रास्ते में फंसे मजदूरों को घर पहुंचाने का काम सुचारू रूप से होना चाहिए. अगर अधिक संख्या में लोग रास्ते में हैं तो सरकारी स्कूल कालेज खोलकर उनके लिए बसेरे बनाए जा सकते हैं और फिर साधन होने पर उनको रवाना किया जा सकता है.’


 

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box.

Previous Post Next Post