Click Here Corona Virus JUNE All Updates | कोरोना वायरस से जुड़ी आज की सारी खबरें



Fake News Alert- मौलाना साद के पीएम केयर्स में एक करोड़  दान देने का सच


सोशल मीडिया पर फेक न्यूज़ बहुत तेजी से के साथ वायरल होती हैं इस बार सोशल मीडिया पर एक न्यूज़ वायरल हो रही है जिसमें लिखा है तबलीगी जमात के प्रमुख मौलाना मोहम्मद साद ने PM CARES में 1 करोड़  रुपए दान किए हैं । आइए करते हैं वायरल हो रही इस फेक न्यूज़ की पड़ताल । आपने सोशल मीडिया फेसबुक पर देखा होगा एक अंग्रेजी अखबार की कटिंग खूब वायरल हो रही है इस अखबार में यह दावा किया जा रहा है की तबलीगी जमात के मौलाना मोहम्मद साद ने 28 मार्च को पीएम केयर फंड में एक करोड़ पर का सहयोग दिया है यह फोटो आप नीचे देख सकते हैं



The viral image of the news report saying that Maulana Saad donating Rs 1 crore to PM CARES. (Photo: Facebook)



मौलाना साद साहब ने 28 मार्च को 1 करोड़ रुपये PM रिलीफ फंड में दिए हैं, जब उनसे पूछा गया कि आपने ये बात सबको क्यो नही बताई तो उन्होंने जवाब कि "इस्लाम दान को दिखावे की इजाजत नही देता"
    Posted by Princě Ťanźeem on Monday, 6 April 2020
इस तस्वीर को शेयर करते हुए लिखा गया है कि उनसे पूछा गया कि आपने यह बात सबको क्यों नहीं बताई । तो उन्होंने जवाब दिया कि इस्लाम दान के दिखावे की इजाजत नहीं देता । दरअसल मौलाना मोहम्मद साद तबलीगी जमात के प्रमुख बीते महीने जब उनके धार्मिक आयोजन के कारण और उनके मामले बढ़ने के आरोप लगे तो उनका नाम सुर्खियों में गया। इस आयोजन और संक्रमण के फैलने का जिम्मेदार मौलाना मोहम्मद साद को बताया जा रहा है । क्योंकि वायरल तस्वीर में 30 मार्च, 2020 की तारीख पड़ी है, इसलिए हमने वेबसाइट का 30 मार्च को छपी खबरों का आर्काइव खंगाला. हमें वहां 30 मार्च, 2020 को मौलाना साद के बारे में प्रकाशित कोई खबर नहीं मिली. इस वायरल हो रही तस्वीर के बारे में इस Keyword को हमने इंटरनेट पर सर्च किया तो हमें एक और तस्वीर मिली इसी के जैसी दिखती है बस वहां पर फोटो चेंज है।


दूसरी तस्वीर हमें मिली वह आयरलैंड के अखबार न्यूज़ लेटर के पहले पन्ने की तस्वीर थी । यह तस्वीर अमेरिकी राष्ट्रपति जब पिछले साल जून में ब्रिटेन के तीन दिवसीय दौरे पर थे तो इस दौरान उन्होंने ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के साथ द्वितीय विश्व युद्ध के सबसे महत्वपूर्ण सैन्य अभियान 'डी-डे' की 75 वीं वर्षगांठ के समारोह में शिरकत की थी। इस तस्वीर ज्यादातर अखबारों के पहले पन्ने पर जगह मिली थी । इस तस्वीर को अब भारत में इस पुरानी तस्वीर को एडिट करके मौलाना साद के PM Cares में सहयोग देने का दावा किया जा रहा है हालांकि इस तस्वीर पर आसानी से यक़ीन किया जा सके इसके लिए इसमें दो और ख़बरें बदली गई हैं. असली अख़बार के दाईं ओर ब्रिटिश एथीलीट ग्रेग रेदरफ़ोर्ड के इंटरव्यू को हटाकर अज़ीम प्रेमजी के कोविड-19 से निपटने के लिए दी गई सहयोग राशि की ख़बर लगा दी गई. साथ ही टोरी नेता की एक अन्य ख़बर को हटा कर स्पेन में कोरोना के क़हर की एक हेडलाइन लगा दी गई है.



बीते 1 हफ्ते से भारतीय मीडिया कोरोनावायरस को कम्युनल एंगल देने की कोशिश कर रहा है और ऐसी कई सारी खबरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं

हमारी पड़ताल में सामने आया कि अंग्रेजी अखबार की कटिंग के साथ वायरल हो रही मौलाना साद की 1 करोड़ रुपए  पीएम केयर्स  में दान करने का दावा करने वाली पिक्चर झूठी है और यह खबर फेक है

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box.

Previous Post Next Post