Click Here Corona Virus JUNE All Updates | कोरोना वायरस से जुड़ी आज की सारी खबरें



उन दोनों की उम्र 23 साल की थी. एक का नाम था अमृत कुमार, दूसरे का नाम था मोहम्मद सयूब. दोनों सूरत की टैक्सटाइल फैक्ट्री में काम करते थे. वे उत्तर प्रदेश में बस्ती जिले के एक ही गांव के थे. दोनों एक ही कमरे में रहते थे. वे साथ में ही घर के लिए निकले थे. सयूब अपने घर का अकेला कमाने वाला था, उसने 10,000 रुपये कमाए थे और अपने घर भेज चुका था. घर जाना हुआ तो पैसा खत्म था. अमृत ने ही ट्रक ड्राइवर से बात की और सयूब के घर जाने का किराया भी उसी ने दिया था. 

वे सूरत से चले थे, तभी से अमृत को बुखार था. साथ में पैरासीटामॉल ले ली थी. जब मध्य प्रदेश पहुंचे तो अमृत की ​तबियत बिगड़ने लगी. सयूब ने ट्रक में सवार बाकी लोगों से कहा कि इसे अस्पताल ले जाना पड़ेगा. लेकिन ट्रक ड्राइवर और अन्य सवारियों ने रुकने से इनकार कर दिया. 

शिवपुरी में सयूब और अमृत उतर गए. ड्राइवर ने सयूब से कहा कि उसका सामान दे दो और आओ अपनी जगह पर बैठो. सयूब ने कहा, “मैं नहीं आने वाला. तुम लोगों को जाना है तो जाओ. ऐसी हालत में छोड़ के कैसे जा सकता हूं.” 

सयूब ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया, “मुझे डर नहीं लगा. बस यही लग रहा था कि ये जल्दी ठीक हो जाए और घर पहुंच जाएं सही सलामत. हम दोनों के मम्मी पापा इंतजार कर रहे थे. मैंने सोचा कि जब तक इलाज नहीं होता, मैं यहीं रहूंगा.” 

ट्रक से उतर कर अमृत जमीन पर लेट गया. सयूब ने अपनी गोद में उसका सिर रख लिया था और रुमाल भिगोकर उसके माथे पर रख दी थी ताकि तापमान कम हो सके. उनके पास आधा बोतल पानी था. एंबुलेंस आई और अमृत को अस्पताल ले गई.  

अस्पताल ले जाने तक अमृत बोल नहीं पा रहा था. कम्युनिटी हेल्थ सेंटर में डॉ ने कहा, “उसका शुगर कम हो गया था. मैंने ओआरएस दिया. तापमान काफी बढ़ा हुआ था. मुझे लगा कि उसे हीट स्ट्रोक आया है. उसे बुखार था.” 

अमृत को शिवपुरी जिला अस्पताल भेजा गया. डॉक्टर ने पाया कि उसे गंभीर किस्म का डिहाइड्रेशन था. उसके फेफड़े तो पूरी तरह ठीक थे. अमृत को वेंटीलेटर पर रखा गया था, लेकिन शुक्रवार रात को उसकी मौत हो गई. उसका सैंपल जांच के लिए भेजा गया है और सयूब सहित डॉक्टरों को कोरंटाइन कर दिया गया.  

अमृत और सयूब को आपस में लड़ाने वाले वॉट्सएप विष विद्यालय के संस्थापक लोग गायब हैं. अमृत और सयूब आपस में मिलजुल कर निपट रहे हैं. ​कोई खुशनसीब है कि जान बचाए अपने घर पहुंच जा रहा है, कोई बदनसीब कभी नहीं पहुंचेगा. 

सयूब अगर घर पहुंचा तो अमृत की मां उससे पूछेगी कि 'हे भैया, हमरे अमरित को कहां छोड़ आए?'

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box.

Previous Post Next Post